न्यूयॉर्क के टाइम्स स्क्वेयर पर लोगों के बिना बॉल ड्रॉप इवेंट होगा, दुनिया के कई शहरों में जश्न पर रोक


2021 चौखट पर है। यह साल कोरोना की दहशत के बीच कुछ ज्यादा उम्मीदें लेकर आ रहा है। कई देशों में जश्न की तैयारी है, लेकिन बंदिशों के साथ। सबसे पहले ऑस्ट्रेलिया के नजदीक टोंगा आइलैंड पर नए साल ने दस्तक दे दी है। दुनिया के स्टैंडर्ड टाइम के हिसाब से माना जाता है कि यहीं सबसे पहले रात के 12 बजते हैं।

अमेरिका के पास हॉलैंड और बेकर आइलैंड्स पर सबसे आखिरी में (भारतीय समयानुसार 1 जनवरी शाम 5:30 बजे) नए साल का सूरज पहुंचता है। हालांकि, यह ऐसा इलाका है जहां कोई आबादी नहीं रहती। महामारी के बीच कहां कैसे नए साल का स्वागत होगा, हम आपको बता रहे हैं।

दुनिया के वो 4 शहर, जहां नए साल का जश्न सुर्खियों में रहता है

1. सिडनी का हार्बर ब्रिज
आस्ट्रेलिया का यह शहर नए साल की आतिशबाजी के लिए मशहूर है। माना जाता है कि यह दुनिया का पहला शहर है, जहां नए साल का जश्न सबसे पहले मनाया जाता है। 31 दिसंबर की दोपहर से सिडनी के हार्बर ब्रिज पर फेरी रेस, म्यूजिकल इवेंट्स और सैन्य प्रदर्शनों के प्रोग्राम न्यू ईयर का हिस्सा होते हैं। इस साल भी ये हो रहे हैं, लेकिन कोरोना के कारण यहां लोगों के जुटने पर रोक लगाई गई है। सिडनी के लोग इसे लाइव देख सकेंगे।

कोरोना की वजह से नए साल पर सिडनी के हार्बर ब्रिज पर लोगों के जुटने पर रोक लगाई गई है। -फाइल फोटो

2. ऑकलैंड का स्काई टावर
न्यूजीलैंड उन देशों में शामिल है, जहां नया साल सबसे पहले दस्तक देता है। भारत में जब शाम के तकरीबन 4:30 बज रहे होंगे, तब न्यूजीलैंड की घड़ी रात के 12 बजा रही होगी। नए साल का सबसे पहला बड़ा ईवेंट न्यूजीलैंड के ऑकलैंड में मनाया जाएगा। यहां के स्काई टावर पर पांच मिनट की आतिशबाजी के साथ नए साल का स्वागत होगा। न्यूजीलैंड का ऑकलैंड दुनिया का ऐसा इकलौता बड़ा शहर है, जहां नए साल की शुरुआत बिना किसी पाबंदी के हो रही है।

2020 में ऑकलैंड के स्काई टावर पर कुछ इस तरह आतिशबाजी की गई। -फाइल फोटो

3. दुबई का बुर्ज खलीफा
यहां नए साल के स्वागत की पूरी तैयारी है। भारतीय समयानुसार रात करीब 1:30 बजे बुर्ज खलीफा पर आतिशबाजी, लाइट और लेजर शो होगा। लोगों को इस इलाके में बनाए गए पांच गेट से QR कोड दिखाकर एंट्री मिलेगी। यहां कोराना गाइडलाइन बेहद सख्ती से लागू की गई है। प्रोग्राम की लाइव स्ट्रीमिंग भी होगी। इसे mydubainewyear.com पर देखा जा सकेगा।

बुर्ज खलीफा दुनिया की सबसे ऊंची इमारत है। यह 828 मीटर ऊंची है। इसमें 163 मंजिल हैं। -फाइल फोटो

4. न्यूयॉर्क का टाइम्स स्क्वेयर
24 घंटे रोशनी से जगमगाने के लिए मशहूर न्यूयॉर्क के टाइम्स स्क्वायर पर 31 दिसंबर की रात भीड़ नहीं दिखेगी। 31 दिसंबर की शाम ढलते ही न्यूयॉर्क की पुलिस टाइम्स स्क्वायर पर आम लोगों को जाने से रोक देगी। हालांकि, लोग वर्चुअली न्यू इयर का काउंटडाउन और बॉल ड्रॉप देख सकेंगे। यह कार्यक्रम भारतीय समयानुसार शुक्रवार सुबह 10:30 बजे होगा। सबसे पहली बार यहां बॉल 1907 में ड्रॉप की गई थी। इस साल टाइम्स स्क्वायर के ऊपर 7 फुट का न्यूमेरल्स रखा जाएगा।

1907 में न्यूयॉर्क के टाइम्स स्क्वेयर पर पहली बार ईव बॉल गिराई गई। -फाइल फोटो

टाइम्स स्क्वायर पर कैसे शुरू हुआ नए साल पर बॉल ड्रॉप
18वीं शताब्दी में बंदरगाहों पर हर दिन एक तय वक्त पर इसी तरह की बॉल ड्रॉप की जाती थी। इससे नाविकों को सिग्नल मिल जाता था और वे अपनी घड़ियों का टाइम सेट कर लेते थे। 1907 में न्यूयॉर्क के टाइम्स स्क्वेयर पर पहली बार ईव बॉल गिराई गई।

इस सेलिब्रेशन का फंड न्यूयॉर्क टाइम्स के मालिक अल्फ्रेड ऑक्स ने दिया था। मौका था अखबार के दफ्तर के उद्घाटन का। लकड़ी और लोहे से तैयार पहली बॉल का वजन 317 किलो था। तब से यहां हर साल ‘टाइम्स स्क्वेयर बॉल ड्रॉप’ करने की परंपरा है।

युद्ध की वजह से यह बॉल 1942 और 1943 में नहीं गिरार्ई गई थी। आतिशबाजी की राख से जब जश्न मनाने आए लोग परेशान होने लगे तो यह सोचा गया कि आतिशबाजी कम की जाए और नए साल की शुरुआत के सिम्बल के तौर पर टाइम बॉल ड्रॉप की जाए। यह इवेंट कुछ ही सालों में पॉपुलर हो गया।

इन शहरों में जश्न पर रोक रहेगी

  • सिंगापुर: मरीना बे रिसॉर्ट में इस साल सेलिब्रेशन नहीं होगा। पीपुल्स एसोसिएशन की आतिशबाजी की स्ट्रीमिंग कम्युनिटी फेसबुक पेज पर होगी।
  • पेरिस: यहां हर दिन रात 8 बजे से कर्फ्यू लगाया जा रहा है। इसे नए साल पर भी नहीं हटाया जाएगा। पेरिस के आर्क डी ट्रियोम्फ पर नए साल के मौके पर होने वाले आतिशबाजी कार्यक्रम भी रद्द कर दिए गए हैं।
  • लंदन: यहां न्यू ईवेंट रद्द कर दिया गया है। हालांकि, शहर हर साल की तरह ही सजाया गया है। सजावट और आतिशबाजी का लाइव टेलीकास्ट होगा ताकि दुनिया इसे टीवी पर देख सके।
  • मास्को: यहां स्थानीय प्रशासन ने यहां बीते कुछ दिनों में बढ़े कोरोना और संक्रमण के मामलों को देखते हुए नए साल के पारंपरिक ईव सेलिब्रेशन पर रोक लगा दी है। जो होटल, रेस्टोरेंट देर रात तक खुले रहते हैं वे भी बंद रहेंगे।
  • बर्लिन: जर्मनी के बर्लिन शहर में भी नए साल पर आतिशबाजी और कल्चरल प्रोग्राम होते हैं। लेकिन इस बार कोरोना महामारी के कारण सार्वजनिक कार्यक्रमों पर रोक है।
  • पटाया: थाइलैंड के ज्यादातर शहरों में जश्न मनाया जाएगा, लेकिन पटाया में न्यू इयर सेलिब्रेशन को कैंसिल कर दिया गया है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


दुबई में बुर्ज खलीफा, न्यूयॉर्क में टाइम्स स्क्वायर और सिडनी में हार्बर ब्रिज की आतिशबाजी दुनिया में सुर्खियों में रहती है -सिम्बॉलिक इमेज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *