दिलीप छाबड़िया खुद को कार बेचते थे, एक नंबर पर रजिस्टर्ड कराते थे दो कारें; सभी पर लाखों का लोन


देश की पहली रेसिंग कार बनाने वाले कार डिजाइनर दिलीप छाबड़िया की गिरफ्तारी के बाद मुंबई पुलिस ने कई खुलासे किए हैं। पुलिस ने बताया कि छाबड़िया कथित तौर पर कार फाइनेंस और फेक रजिस्ट्रेशन रैकेट से जुड़े हुए थे। इस रैकेट में छाबड़िया की बनाई गई लग्जरी कारों का इस्तेमाल किया गया था। पुलिस ने एक कार भी जब्त की है।

छाबड़िया पर आरोप है कि वो अपनी बनाई कारों को खुद ग्राहक बनकर खरीदते थे और उन कारों पर लोन भी लेते थे। छाबड़िया को धोखाधड़ी और जालसाजी समेत कई आरोपों में गिरफ्तार किया गया है। उन्हें मंगलवार को मुंबई की किला कोर्ट में पेश किया गया, जहां से 2 जनवरी तक क्राइम ब्रांच की कस्टडी में भेज दिया है।

स्पोर्ट्स कार जब्त होने के बाद हुआ खुलासा
मुंबई क्राइम ब्रांच की क्राइम सीक्रेट यूनिट (CIU) ने सोमवार शाम को छाबड़िया को गिरफ्तार किया था। यह घोटाला तब सामने आया, जब पुलिस ने दक्षिण मुंबई में दिलीप छाबड़िया डिजाइन प्राइवेट लिमिटेड की बनाई हुई स्पोर्ट्स कार ‘डीसी अवंती’ को जब्त किया। पुलिस को सूचना मिली थी कि इस कार का रजिस्ट्रेशन फर्जी है।

क्राइम ब्रांच को सूचना मिली थी कि दो सीटर स्पोर्ट्स कार डीसी अवंती नरिमन प्वाइंट के होटल ट्राइडेंट के पास आने वाली है, लेकिन उस दिन वो कार वहां नहीं पहुंची। अगले दिन यानी 28 दिसंबर को पुलिस को टिप मिली कि कार ताजमहल होटल, कोलाबा में आने वाली है। पुलिस ने वहां जाल बिछाया और कार के आते ही उसे कब्जे में ले लिया।

पुलिस ने उनकी कंपनी द्वारा बनाई गई ‘DC अवंती’ कार को भी जब्त किया है।

चेन्नई और हरियाणा में रजिस्टर्ड मिलीं एक ही नंबर की दो गाड़ियां
जब्त कार के मालिक ने जो दस्तावेज दिखाए, वह चेन्नई में रजिस्टर्ड थे। पुलिस ने बताया कि इसी इंजन और चेसिस नंबर की दूसरी कार हरियाणा में रजिस्टर्ड मिली। जांच में पता चला कि दिलीप छाबड़िया की कंपनी ने हर ‘डीसी अवंती’ कार के लिए फर्जी ग्राहकों के नाम पर करीब 42 लाख रुपये का कर्ज लिया है।

120 कारों को देश और विदेश में बेचा गया
भारत और विदेश में 120 ‘डीसी अवंती’ कारों को बेचा गया है और कम से कम 90 कारों का इस्तेमाल कथित रूप से फर्जी तरीके से लोन लेने में किया गया है। पुलिस ने दावा किया कि कर्ज लेने के लिए कागजों पर जो गाड़ियां दिखाई जाती थीं, उन्हें पहले ही बेचा जा चुका होता था।

दिलीप छाबड़िया को मंगलवार को मुंबई की कोर्ट में पेश किया गया।

खुद कार बनाई और बेच दी

पुलिस ने कहा कि बीएमडब्ल्यू फाइनेंशिल सर्विसेज समेत कई गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियों को इस तरह से ठगा गया है। अधिकारियों ने बताया कि अपराध शाखा इस बात का पता लगा रही है कि धोखाधड़ी से कितना कर्ज लिया गया है और टैक्स चोरी की वजह से सरकार को कितना नुकसान हुआ है।

जांच में सामने आया है कि डीसी अवंती को दिलीप छाबड़िया ने खुद बनाया और खरीदा, फिर उसे थर्ड पार्टी को बेच दिया। इसका मतलब है कि आरोपी अपनी बनाई कारों के लिए कर्ज ले रहा था।

देश की पहली स्पोर्ट्स कार बनाई
छाबड़िया ने भारत की पहली स्पोर्ट्स कार भी डिजाइन की थी। वह कार से लेकर लग्जरी बस तक सब कुछ डिजाइन कर चुके हैं। उन्होंने अमिताभ बच्चन, शाहरुख खान समेत तमाम फिल्मी हस्तियों की कारें डिजाइन की हैं। कार के साथ ही वह वैनिटी वैन भी डिजाइन करते हैं। इनकी कीमत करोड़ों में होती है।

छाबड़िया की क्लाइंट लिस्ट में कमेडियन कपिल शर्मा, माधुरी दीक्षित, ऋतिक रोशन जैसे स्टार भी शामिल हैं। वो बॉलीवुड मूवी टारजन द वंडर कार के लिए भी कार डिजाइन कर चुके हैं। कई बड़े शहरों में दिलीप छाबड़िया के डिजाइन स्टूडियो हैं।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


कार डिजाइनर दिलीप छाबड़िया को मुंबई पुलिस ने सोमवार को गिरफ्तार किया गया। उन्हें मंगलवार को कोर्ट में पेश किया। छाबड़िया पर धोखाधड़ी और जालसाजी समेत कई आरोपों हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *