WHO बोला- ये आखिरी महामारी नहीं; अब कनाडा और स्वीडन में भी म्यूटेशन वाला वायरस मिला


विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि कोरोना वायरस दुनिया में आने वाली आखिरी महामारी नहीं है। जलवायु परिवर्तन और पशु कल्याण से निपटे बिना ह्यूमन हेल्थ में सुधार की कोशिशें सफल नहीं हो सकती हैं। WHO चीफ टेड्रोस गेब्रयेसस ने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में सिर्फ पैसा बहाने से ही कुछ नहीं होगा। हमें भविष्य के लिए भी तैयारी करनी होगी।

उन्होंने कहा कि हम एक आपदा से निपटने के लिए पैसों का इस्तेमाल करते हैं और जब वह आपदा खत्म हो जाती है, तो हम उसे भूला देते हैं। भविष्य में ऐसी समस्याओं से बचने के लिए हम कदम उठाना बंद कर देते हैं।

वहीं, ब्रिटेन में मिले कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन से संक्रमित मरीज दूसरे देशों में भी सामने आने लगे हैं। जापान और फ्रांस के बाद स्पेन, कनाडा और स्वीडन में भी इसके मामले मिले हैं। शनिवार को स्वीडन में इस नए स्ट्रेन का एक और कनाडा में दो मामले सामने आए। स्वीडन की हेल्थ एजेंसी ने बताया कि ब्रिटेन से लौटे एक पैसेंजर के बीमार पड़ने के बाद उसकी जांच कराई गई। जांच में कोरोना के नए रूप की पुष्टि हुई। वहीं, कनाडा में मिले दोनों मरीज हाल ही में ब्रिटेन से लौटे थे।

दुनिया में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 8.07 करोड़ के ज्यादा हो गया। 5 करोड़ 68 लाख से ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं। अब तक 17 लाख 64 हजार से ज्यादा लोग जान गंवा चुके हैं। ये आंकड़े www.worldometers.info/coronavirus के मुताबिक हैं।

फिलिपिंस दो हफ्ते के लिए UK की फ्लाइट्स रोकीं
कोरोना के नए स्ट्रेन के बढ़ते मामले के मद्देनजर फिलिपींस ने ब्रिटेन से आने वाली फ्लाइट्स पर दो हफ्ते की रोक लगा दी। यह रोक जनवरी के मध्य तक लागू रहेगी। राष्ट्रपति रॉड्रिगो ड्यूटर्टे ने ब्रिटेन से आने वाले यात्रियों के लिए 24 दिन के क्वारैंटाइन के आदेश जारी किए। इसमें वे सभी पैसेंजर्स शामिल हैं, जो पिछले दिनों जापान, ऑस्ट्रेलिया, सिंगापुर और हॉन्गकॉन्ग जैसे देशों आएं हैं, जहां कोरोना के नए रूप के मामले मिले हैं।

बाइडेन बोले- पेडिंग कोविड-19 रिलीफ फंड पर साइन करें ट्रम्प
अमेरिका के प्रसिडेंट इलेक्टेड जो बाइडेन ने शनिवार को कहा कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प पेंडिंग कोविड-19 रिलीफ फंड पर जल्द साइन करें। उन्होंने कहा कि क्रिसमस बीत चुका है और करोड़ो परिवारों को अब जक नहीं पता कि उनकी मदद की भी जाएगी या नहीं। इसका कारण यह है कि ट्रम्प कांग्रेस द्वारा बहुमत से पास किए 2.3 ट्रिलियन के पैकेज (1694 अरब रुपए) पर हस्ताक्षर नहीं कर रहे हैं।

ब्रिटेन में दवा पर रिसर्च
ब्रिटेन के साइंटिस्ट्स एक नई दवा पर काम कर रहे हैं। दावा किया जा रहा है कि इस दवा के इस्तेमाल से कोरोना संक्रमण को रोका जा सकेगा। हालांकि, ‘द हेल्थ’ मैगजीन ने अपनी एक अलग रिपोर्ट में कहा है कि इस ड्रग यानी दवा का इस्तेमाल संक्रमित व्यक्ति को ठीक करने में किया जाएगा। ब्रिटेन सरकार या हेल्थ डिपार्टमेंट ने फिलहाल तस्वीर साफ नहीं की है। माना जा रहा है कि ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिक इस नए ड्रग पर रिसर्च कर रहे हैं।

कोरोना प्रभावित टॉप-10 देशों में हालात

देश

संक्रमित मौतें ठीक हुए
अमेरिका 19,433,847 339,921 11,410,501
भारत 10,188,392 147,659 9,760,848
ब्राजील 7,465,806 190,815 6,475,466
रूस 3,021,964 54,226 2,426,439
फ्रांस 2,550,864 62,573 189,718
यूके 2,256,005 70,405 N/A
तुर्की 2,133,373 19,624 1,994,034
इटली 2,038,759 71,620 1,386,198
स्पेन 1,869,610 49,824 N/A
जर्मनी 1,643,169 30,157 1,223,700

(आंकड़े www.worldometers.info/coronavirus के मुताबिक हैं)

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


Coronavirus Pandemic Country Wise Cases LIVE Update; USA Pakistan China Brazil Russia France Spain Recovery Rate Covid 19 Cases

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *