मोदी ने कच्छ में 3 परियोजनाओं की आधारशिला रखी, बोले- कच्छ अब वीरान नहीं, पर्यटन केंद्र बन गया है


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को गुजरात के दौरे हैं। यहां कच्छ में उन्होंने समुद्री पानी को पीने के पानी में बदलने वाले (डिसैलिनेशन) प्लांट, देश की सबसे बड़ी सौर परियोजना और एक ऑटोमैटिक मिल्क प्रोसेसिंग यूनिट का भी शिलान्यास किया।

यह हाइब्रिड रिन्युएबल एनर्जी पार्क कच्छ के विघाकोट गांव में बनाया जा रहा है। 72 हजार 600 हेक्टेयर में फैले इस एनर्जी पार्क में 30 गीगावाट तक बिजली बनाई जा सकेगी। यहां पर विंड और सोलर एनर्जी के स्टोरेज के लिए अलग जोन होगा। मोदी ने अपने संबोधन में कहा- भूकंप के बाद कच्छ के लोगों ने हिम्मत नहीं हारी। जो कच्छ कभी वीरान रहता था, अब यहां देश और दुनिया के पर्यटक आते हैं।

राष्ट्रीय सुरक्षा पर प्रभाव पड़ा
मोदी ने अपने भाषण में कहा- कच्छ तेजी से आगे बढ़ रहा है। इस सीमावर्ती इलाके में तेजी से लोग आ रहे है। अब यहां से पलायन रुका है। गांवों में लोग वापस आ रहे हैं। इसका बड़ा प्रभाव राष्ट्रीय सुरक्षा पर पड़ा है। जो कच्छ कभी वीरान रहता था, वो अब पर्यटन का केंद्र बन रहा है। कच्छ का सफेद रण, यहां का रणोत्सव दुनिया को आकर्षित करता है। औसतन 4-5 लाख लोग रणोत्सव में आते हैं।

अजब संयोग
मोदी ने आगे कहा- भूकंप के बाद जब चुनाव हुए। नतीजे आए तो तारीख 15 दिसंबर थी। लोगों ने जमकर हमारी पार्टी पर प्यार बरसाया। इस तारीख के साथ एक और संयोग जुड़ा है। हमारे पूर्वज गजब की सोच रखते थे। आज से 118 साल पहले (1902) आज ही के दिन अहमदाबाद में एक इंडस्ट्रियल एग्जीबिशन का उद्घाटन हुआ। उसका विषय था- भानू ताप यंत्र यानी सूर्य की गर्मी से चलने वाला यंत्र। आज फिर सूर्य से ऊर्जा से चलने वाले सोलर एनर्जी पार्क का शिलान्यास किया है।

सीमा के पास पवनचक्कियां लगने से सुरक्षा भी बढ़ेगी। बिजली का बिल कम करने में भी मदद मिलेगी, प्रदूषण कम होगा, पर्यावरण को काफी फायदा होगा। यहां पैदा होने वाली बिजली 5 करोड़ टन कॉर्बनडाइऑक्साइड के उत्सर्जन रोकेगी, 9 करोड़ पेड़ों को कटने से रोकेगी।

किसानों के लिए अलग नेटवर्क
प्रधानमंत्री ने किसानों का जिक्र भी किया। कहा- किसानों के लिए अलग से नेटवर्क बनाया जा रहा है। उनके लिए नई लाइनें बनाई जा रही है। गुजरात पहला राज्य है जिसने किसानों के लिए नीतियां बनाईं। पहले सोलर पावर के 16-17 रुपए प्रति यूनिट बिकने की बात कही गई थी, आज यही बिजली 2-3 रुपए प्रति यूनिट बिक रही है। सोलर एनर्जी की हमारी क्षमता 16 गुना तक बढ़ गई है। इस क्षेत्र में 104 देशों की स्टडी सामने आई है। यह बताती है कि सोलर एनर्जी इस्तेमाल करने वालों में भारत ने टॉप-3 देशों में जगह बनाई है।

कच्छ के मांडवी में बनेगा डिसैलिनेशन प्लांट
डिसैलिनेशन प्लांट कच्छ के मांडवी में बनाया जाएगा। इसकी मदद से हर दिन 10 करोड़ (100 MLD) लीटर समुद्र के पानी को पीने के पानी में बदला जा सकेगा। यह गुजरात में पानी की कमी को दूर करने में अहम भूमिका निभाएगा। इससे करीब क्षेत्र के 8 लाख लोगों को पीने के पानी की सप्लाई की जा सकेगी। यह गुजरात में बनाए जा रहे पांच डिसैलिनेशन प्लांट में से एक होगा। ऐसे ही प्लांट दाहेज, द्वारका, घोघा भावनगर और गिर सोमनाथ में भी बनाए जा रहे हैं।

121 करोड़ की लागत से तैयार होगा मिल्क प्रोसेसिंग प्लांट
ऑटोमैटिक मिल्क प्रोसेसिंग और पैकेजिंग प्लांट कच्छ के अंजार में बनाया जाएगा। इसे 121 करोड़ रु. की लागत से तैयार किया जाएगा। इसमें से हर दिन करीब 2 लाख लीटर दूध लीटर की प्रोसेसिंग की जा सकेगी।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


गुजरात दौरे पर कच्छ में जनसभा को संबोधित करते प्रधानमंत्री मोदी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *