Z सिक्योरिटी के साथ अब बुलेट प्रूफ गाड़ी भी मिलेगी, 3 दिन पहले बंगाल में हमला हुआ था


भाजपा महासचिव और पश्चिम बंगाल में पार्टी प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय की सुरक्षा में इजाफा किया गया है। उनके पास पहले से Z श्रेणी की सिक्योरिटी थी। अब उन्हें बुलेटप्रूफ गाड़ी भी मिलेगी। 4 दिन पहले पश्चिम बंगाल में भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के काफिले पर हमला हुआ था, जिसमें कैलाश विजयवर्गीय को भी चोटें आई थी। इसके बाद से लगातार विजयवर्गीय के सुरक्षा मे इजाफे की मांग उठ रही थी। भाजपा हमले के पीछे तृणमूल कांग्रेस को जिम्मेदार बता रही है।

नड्डा के काफिले के बाद बंगाल में राजनीति गरमाई
10 दिसंबर को नड्डा के काफिले पर उस वक्त हमला हुआ था, जब वे कोलकाता से 24 परगना जिले के डायमंड हार्बर जा रहे थे। इसमें विजयवर्गीय भी घायल हो गए थे। डायमंड हार्बर ममता के भतीजे अभिषेक बनर्जी का संसदीय इलाका है। प्रदर्शनकारियों ने नड्डा के काफिले का रास्ता रोकने की कोशिश की थी।

11 दिसंबर को जगदीप धनखड़ ने ममता सरकार पर गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि आग से मत खेलो, यह बहस छोड़नी होगी कि कौन भीतरी और कौन बाहरी है। जो हुआ वह दुर्भाग्यपूर्ण है। मुख्यमंत्री को संविधान मानना चाहिए। वे अपनी जिम्मेदारियों से नहीं हट सकतीं। राज्य में कानून व्यवस्था लगातार बिगड़ रही है।

अब केंद्र और राज्य सरकार आमने-सामने
12 दिसंबर को गृह मंत्रालय ने राज्य में तैनात तीन IPS अफसरों को डेपुटेशन पर वापस बुला लिया। बताया जाता है कि नड्डा की सुरक्षा के जिम्मेदारी इन्हीं अफसरों पर थी।

इसी बीच, गृह मंत्रालय ने 14 दिसंबर को बंगाल सरकार के दो बड़े अधिकारियों को तलब किया था। तृणमूल कांग्रेस के सांसद कल्याण बनर्जी ने गृह सचिव अजय भल्ला को खत लिखकर इस कदम को राजनीतिक बदले की कार्रवाई बताया। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, बंगाल के अफसर दिल्ली नहीं पहुंचे।

ऐसा होता है सिक्योरिटी कवर

स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप यानी SPG
यह सबसे हाई प्रोफाइल कवर है। इसके तहत प्रधानमंत्री और उनके परिवार को सुरक्षा दी जाती है। फिलहाल सिर्फ पीएम मोदी के पास यह कवर है। पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी से SPG कवर वापस लिया जा चुका है।

Z+ कैटेगरी
यह SPG के बाद का दूसरा सबसे सख्त सिक्युरिटी कवर है। इसमें 10 एनएसजी कमांडो और पुलिस अफसरों समेत 55 सुरक्षाकर्मी होते हैं। एस्कॉर्ट्स और पायलट व्हीकल भी दिए जाते हैं।

Z कैटेगरी
इसमें 22 सुरक्षाकर्मी होते हैं। 4 से 5 एनएसजी कमांडो के अलावा दिल्ली पुलिस, आईटीबीपी या सीआरपीएफ के कमांडो और लोकल पुलिसकर्मी होते हैं।

Y कैटेगरी
यह किसी वीआईपी को मिलने वाली तीसरे लेवल की सुरक्षा होती है। इसमें 11 सुरक्षाकर्मी होते हैं। इनमें एक या 2 कमांडो और 2 पर्सनल सिक्युरिटी ऑफिसर शामिल होते हैं।

X कैटेगरी
इसमें दो सुरक्षा गार्ड तैनात होते हैं। एक पर्सनल सिक्युरिटी ऑफिसर होता है। इस सुरक्षा कवर में कोई कमांडो शामिल नहीं होता।​​​​​​​

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा के काफिले पर बंगाल में 10 दिसंबर को TMC समर्थकों ने पथराव कर दिया था। हमले में कैलाश विजयवर्गीय घायल हो गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *