किसान नेता कल अनशन करेंगे, जयपुर-दिल्ली हाईवे जाम करने के लिए रेवाड़ी के करीब इकट्ठा हुए प्रदर्शनकारी


कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन का रविवार को 18वां दिन था। किसान नेताओं ने शाम को प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने ऐलान किया कि सोमवार को दिल्ली बॉर्डर पर सभी किसान नेता सुबह 8 बजे से शाम 5 बजे तक अनशन करेंगे। इसके अलावा सभी डिस्ट्रिक्ट हेडक्वार्टर पर प्रदर्शन किया जाएगा। आंदोलन से अवांछित तत्वों को दूर रखने के लिए भी निगरानी की जाएगी। इस बीच राजस्थान और दूसरी जगहों के किसान रेवाड़ी के करीब हरियाणा-राजस्थान बॉर्डर पर इकट्ठा हो गए हैं और दिल्ली-जयपुर बॉर्डर के किनारे बैठ गए हैं। यहां सिक्युरिटी बढ़ा दी गई।

भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि आज गाजियाबाद बॉर्डर पर कुछ गलत एलिमेंट पोस्टर लेकर आंदोलन में शामिल हुए थे, उन्हें हम लोगों ने हटाया और आगे भी हम लोगों को ऐसे लोगों पर नजर रखनी है। उन्होंने कहा कि कुछ छात्र भी हमारे समर्थन में आए थे, पर हमने कह दिया कि ये केवल किसानों का प्रदर्शन है और इसके बाद वो चले गए।

शाह और तोमर की बैठक हुई
किसानों के ऐलान के मद्देनजर आज कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और कृषि राज्य मंत्री सोम प्रकाश ने गृह मंत्री अमित शाह के आवास पर मीटिंग की। किसान आंदोलन भी दो धड़ों में बंटता हुआ नजर आ रहा है। उत्तराखंड के किसानों ने तोमर से मुलाकात कर कृषि कानूनों का समर्थन किया। इससे पहले शनिवार को हरियाणा के कुछ किसान संगठनों ने भी कृषि कानूनों का समर्थन किया था।

पंजाब के DIG का इस्तीफा
किसानों के समर्थन में पंजाब के DIG (जेल) लखमिंदर सिंह जाखड़ ने रविवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया। ADGP (जेल) पीके सिन्हा ने इस्तीफे की कॉपी मिलने की पुष्टि की है। DIG (जेल) ने लिखा कि प्रदेश के किसान परेशान हैं। ठंड में खुले आसमान के नीचे सड़कों पर बैठे हैं। मैं खुद एक किसान का बेटा हूं, इसलिए इस आंदोलन का हिस्सा बनना चाहता हूं। तुरंत प्रभाव से पदमुक्त करें, ताकि दिल्ली जाकर अपने किसान भाइयों के साथ मिलकर अपने हक के लिए लड़ सकूं।

उधर, किसान कानून वापसी के अलावा किसी भी तरह के संशोधन के लिए तैयार नहीं हैं। इसी को लेकर किसान आज दिल्ली-जयपुर हाईवे बंद कर सकते हैं। उन्होंने चेतावनी दी कि अगर सरकार ने उनकी मांगें नहीं मानी, तो वे सोमवार को भूख हड़ताल करेंगे।

सरकार की इमेज चमकाने के लिए IRCTC की पहल
आंदोलन के मद्देनजर IRCTC ने शीर्षक ‘पीएम मोदी और उनकी सरकार के सिखों के साथ खास रिश्ते’ का 47 पेज का एक अटैचमेंट भेजा। IRCTC के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी सिद्धार्थ सिंह ने बताया कि इस तरह की बुकलेट कुछ दिन पहले जारी की गई थी। सभी सरकारी ऑफिसों ने इसे लोगों को भेजा था। ये डॉक्युमेंट उन लोगों को मेल किया गया था, जिनका सरनेम ‘सिंह’ हो या पंजाब से संबंध हो।

राजस्थान के हजारों किसान दिल्ली पहुंचेंगे
किसान नेता कमलप्रीत सिंह ने कहा कि रविवार को राजस्थान के हजारों किसान आंदोलन को समर्थन देने के लिए दिल्ली आ रहे हैं। इस दौरान वे दिल्ली-जयपुर हाईवे को ब्लॉक करेंगे। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने हमारे आंदोलन खत्म करने के लिए कई हथकंडे अपनाए, लेकिन हमने सब फेल कर दिया।

कमलप्रीत ने कहा कि सरकार ने हमें बांटने की भरपूर कोशिश की। जीत मिलने तक हम लोग शांतिपूर्ण प्रदर्शन करेंगे। 14 दिसंबर को सिंघु बॉर्डर पर कई किसान नेता एक साथ मंच पर आएंगे और भूख हड़ताल करेंगे। हमारी मांग है कि तीनों कानूनों को वापस लिया जाए। हम किसी भी तरह के बदलाव के पक्ष में नहीं हैं।

आंदोलन की अहम बातेंः

  • दिल्ली- गाजीपुर बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसानों को गर्म कपड़े बांटे गए। पंजाब से आए दो भाइयों ने कहा कि सड़कों पर रहना किसे पसंद है। मैं प्रधानमंत्री मोदी का फैन हूं। मुझे उम्मीद है कि वे समझेंगे कि किसानों के बिना देश आगे नहीं बढ़ सकता।
  • अमेरिका की राजधानी वॉशिंगटन डीसी में किसान बिल का विरोध कर रहे कुछ लोगों ने महात्मा गांधी की प्रतिमा को नुकसान पहुंचाया। किसानों के समर्थन में प्रदर्शन कर रहे लोगों ने शनिवार को भारतीय दूतावास के सामने लगी गांधी प्रतिमा पर स्प्रे से पेंट कर दिया। प्रदर्शनकारियों ने गांधी के चेहरे को खालिस्तानी झंडे से ढक दिया था।
  • आंदोलन की गहमागहमी के बीच हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने शनिवार को कई केंद्रीय मंत्रियों से मुलाकात की। इसके बाद उन्होंने कहा कि जिस तरह से केंद्र सरकार बातचीत कर रही है, इससे साफ है कि सरकार इस मामले का हल चाहती है। मुझे पूरा विश्वास है कि अगले 24 से 48 घंटे इसके लिए निर्णायक हो सकते हैं।
  • किसानों के मुद्दे पर NDA से अलग हुए शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने कहा कि केंद्र सरकार किसानों की सुनने की बजाय उनकी आवाज दबाने की कोशिश कर रही है। जिनके लिए कानून बनाए हैं, वे ही इन्हें नहीं चाहते तो केंद्र क्यों अत्याचार कर रहा है? मैं प्रधानमंत्री से अपील करता हूं कि वे किसानों की सुनें।
  • भारतीय किसान यूनियन ने तीनों कृषि बिलों को सुप्रीम कोर्ट में चैलेंज किया। उनका कहना है कि इन कानूनों के चलते किसान कॉरपोरेट के लालच के आगे कमजोर होंगे। किसानों ने बुधवार को सरकार का लिखित प्रपोजल ठुकरा दिया था।
  • दिल्ली-नोएडा बॉर्डर पर चल रहा UP के भारतीय किसान यूनियन (BKU- भानू गुट) ने शनिवार को अपना आंदोलन खत्म कर दिया। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शनिवार रात किसान संगठनों से बात की थी। किसानों और सरकार के बीच कृषि आयोग के गठन को लेकर सहमति बनी है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


यह फोटोज कृषि कानूनों के खिलाफ सिंघु बॉर्डर पर जारी किसान आंदोलन के हैं। रविवार को गाजियाबाद में पंजाबी गायिका सोनिया मान भी पहुंचीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *