अनंतनाग में पुलिस पर चुनाव कवर कर रहे 3 पत्रकारों से मारपीट का आरोप, इक्विपमेंट भी जब्त किए


जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में डिस्ट्रिक्ट डेवलपमेंट काउंसिल (DDC) चुनाव के दौरान पत्रकारों ने पुलिस पर मारपीट करने का आरोप लगाया। केंद्र शासित प्रदेश में गुरुवार को DDC चुनाव के 5वें चरण के लिए मतदान हुआ। इसे कवर करने पहुंचे पत्रकार फयाज लोलू, मुद्दसिर कादरी और जुनैद रफीक ने दावा किया कि उन्हें मारते-पीटते हुए पुलिस पोस्ट तक ले जाया गया और उनके इक्विपमेंट भी जब्त कर लिए गए।

श्रीगुफ्वारा में हुई घटना को कश्मीर प्रेस क्लब (KPC) ने दुर्भाग्यपूर्ण बताया और जांच की मांग की। कश्मीर एडिटर्स गाइड (KEG) ने भी मामले पर चिंता व्यक्त की। पुलिस अधिकारियों ने घटना पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।

दोषियों पर कड़ी कार्रवाई हो
KPC ने बयान जारी कर कहा, ‘हमें उम्मीद है कि प्रेस की स्वतंत्रता पर हमला करने वाली इस घटना में दोषी पाए जानें वालों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। KPC ने मुख्य निर्वाचन अधिकारी से ऐसी घटनाओं पर ध्यान देने और संबंधित पुलिस अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई करने की अपील की है।’

बयान में कहा गया कि KEG इन घटनाओं के दोहराए जाने से चिंतित है, जिसमें पत्रकारों के साथ अपनी ड्यूटी के दौरान हिंसक व्यवहार किया जा रहा है। आज हुई घटना नहीं होनी चाहिए थी।

LG से मामले में हस्तक्षेप की मांग
बयान में कहा कि जब अधिकारियों के पास सवालों के जवाब न देने की आजादी है, तो फिर रिपोर्टर के साथ मारपीट करने का क्या औचित्य है? मामले में उप-राज्यपाल मनोज सिन्हा को हस्तक्षेप करना चाहिए और सुनिश्चित करना चाहिए कि ऐसी घटनाएं पर रोक लगाई जा सके।

मुफ्ती ने भी साधा निशाना
पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी प्रेसिडेंट महबूबा मुफ्ती ने सोशल मीडिया पर मामले की निंदा की। उन्होंने लिखा कि पीपुल्स अलायंस फॉर गुपकार डिक्लेरेशन (PAGD) के 3 उम्मीदवारों को वोट डालने नहीं दिया गया। उनका इंटरव्यू करने गए 3 पत्रकारों से भी मारपीट की गई। जम्मू-कश्मीर में सच्चाई के लिए उठने वाली हर आवाज को दबाने की कोशिश की जा रही है।

5वें चरण में 51% से ज्यादा वोटिंग
DDC चुनाव के 5वें चरण में करीब 51% मतदाताओं ने अपने वोट डाले। घाटी में सबसे ज्यादा 56.40% वोट गंदरबेल में रिकॉर्ड किए गए। वहीं जम्मू रीजन के पुंछ जिले में सबसे ज्यादा 71.62% वोटर्स ने चुनाव में हिस्सा लिया।

पहली बार प्रदेश की 6 पार्टियां मिलकर मैदान में
जम्मू-कश्मीर के इतिहास में यह पहली बार है, जब राज्य की 6 प्रमुख पार्टियां मिलकर चुनावी मैदान में हैं। आर्टिकल 370 हटने के बाद इन पार्टियों ने मिलकर गुपकार अलायंस बनाया है। इनमें डॉ. फारूक अब्दुल्ला की अध्यक्षता वाली नेशनल कॉन्फ्रेंस, महबूबा मुफ्ती की अगुआई वाली पीडीपी के अलावा सज्जाद गनी लोन की पीपुल्स कॉन्फ्रेंस, अवामी नेशनल कॉन्फ्रेंस, जम्मू-कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट और माकपा की स्थानीय इकाई शामिल है।

इनके सामने भाजपा और कांग्रेस के प्रत्याशी हैं। मौजूदा राजनीतिक समीकरण के मुताबिक गुपकार अलायंस कश्मीर में मजबूत है, जबकि भाजपा की स्थिति जम्मू में काफी मजबूत है।

चुनावों के 8 फेज

  • पहला फेज : 28 नवंबर (पूरा हुआ)
  • दूसरा फेज : 1 दिसंबर (पूरा हुआ)
  • तीसरा फेज : 4 दिसंबर (पूरा हुआ)
  • चौथा फेज : 7 दिसंबर (पूरा हुआ)
  • पांचवां फेज : 10 दिसंबर (पूरा हुआ)
  • छठा फेज : 13 दिसंबर
  • सातवां फेज : 16 दिसंबर
  • आठवां फेज : 19 दिसंबर

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


यह फोटो जम्मू के मंडल गांव की है, जहां DDC चुनाव के 5वें चरण के मतदान के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए लोगों ने वोट डाला।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *