कोरोना से बचने के लिए 114 दिन से बंगले में थे, फोन कॉन्ट्रोवर्सी हुई तो 3 गाड़ियों में सामान भरकर वॉर्ड में लौटे


बिहार के भाजपा विधायक से रांची के रिम्स में बैठे-बैठे फोन पर बातचीत ने लालू यादव की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। 114 दिन से लालू रिम्स डायरेक्टर के बंगले में अपना इलाज करवा रहे थे, लेकिन ललन पासवान से फोन पर बातचीत का ऑडियो सामने आया और 2 दिन बाद ही उन्हें इस बंगले से पेइंग वॉर्ड में शिफ्ट कर दिया गया, वो भी 3-3 गाड़ियों में पूरे साजोसामान के साथ।

लालू को इस बंगले में 5 अगस्त को शिफ्ट किया गया था, ताकि उन्हें कोरोना संक्रमण से बचाया जा सके। बिहार विधानसभा में स्पीकर के चुनाव से पहले ही लालू की ललन पासवान से बातचीत का ऑडियो वायरल हुआ। इसमें लालू ललन से ये कहते सुने गए कि वोटिंग से एब्सेंट हो जाओ। ललन ने पटना में लालू के खिलाफ केस दर्ज करवा दिया है। पटना हाईकोर्ट में भी इस मामले में एक याचिका दाखिल की गई है।

जेल अधीक्षक से जवाब मांगा गया, जवाब से पहले ही लालू की शिफ्टिंग
बताया जा रहा है कि फोन कॉन्ट्रोवर्सी के बाद लालू को रिम्स डायरेक्टर के बंगले में रखे जाने पर भी विवाद हो गया है। इसके बाद ही जेल प्रशासन ने उन्हें शिफ्ट करने की कार्रवाई की है। दरअसल, रांची कमिश्नर छवि रंजन ने आज ही जेल अधीक्षक से इस मामले पर 24 घंटे के भीतर रिपोर्ट मांगी थी। कमिश्नर ने पूछा था कि क्या वाकई जेल के नियमों का उल्लंघन हो रहा है और लालू तक मोबाइल कैसे पहुंचा? इसका जवाब दाखिल होने से पहले ही लालू यादव को पेइंग वॉर्ड में भेज दिया गया है।

इससे पहले झारखंड के जेल IG वीरेंद्र भूषण ने इस मामले की जांच का आदेश दिया था। जेल आईजी ने सुरक्षा में तैनात जवानों को भी सचेत करने को कहा है, ताकि लालू प्रसाद से बिना इजाजत कोई न मिल सके।

12 दिन से गेस्ट हाउस में रह रहे डायरेक्टर
बंगला में सजायाफ्ता कैदी के रहने के कारण रिम्स के नवनियुक्त डायरेक्टर कामेश्वर प्रसाद फिलहाल मोरहाबादी के स्टेट गेस्ट हाउस में रह रहे हैं। उन्हें हर दिन का 400 रुपए किराया चुकाना पड़ रहा है। इस हिसाब से बंगला रहते रिम्स निदेशक लगभग 4800 रुपए का किराया दे चुके हैं। वे यहां 15 नवंबर से रह रहे हैं।

26 महीने से RIMS में इलाज करवा रहे हैं लालू यादव
लालू झारखंड के सबसे बड़े अस्पताल RIMS में सबसे ज्यादा दिनों तक इलाज कराने वाले मरीजों में से हैं। वे RIMS में दो साल दो महीने से भर्ती हैं। रिम्स आने से पहले वे एम्स में भर्ती थे। 29 अगस्त 2018 को इन्हें रिम्स के कार्डियोलॉजी बिल्डिंग में शिफ्ट किया गया था।

कार्डियोलॉजी विभाग में कुत्तों की आवाज से परेशान होने के बाद 5 सितंबर को इन्हें रिम्स के पेइंग वार्ड में भर्ती कराया गया था। 5 अगस्त 2020 को राजद सुप्रीमो को कोविड संक्रमण के डर से रिम्स डायरेक्टर के बंगले में शिफ्ट कर दिया गया था।

4 केस में सजायाफ्ता हैं लालू

लालू प्रसाद यादव चारा घोटाला के 4 अलग-अलग मामलों में सजायाफ्ता हैं। 23 दिसंबर 2017 को देवघर कोषागार से 84.53 लाख रुपए की अवैध निकासी के मामले में लालू यादव को साढ़े तीन साल की सजा सुनाई गई थी। 24 मार्च 2018 को दुमका कोषागार से 3.13 करोड़ रुपए की अवैध निकासी के मामले में 2 अलग-अलग धाराओं में लालू को 7-7 साल की सजा सुनाई गई, जबकि 60 लाख जुर्माना भी लगा था। 3 अक्टूबर 2013 में चाईबासा कोषागार से अवैध तरीके से 37.7 करोड़ और 33.67 करोड़ रुपए की अवैध निकासी के मामले में पांच-पांच साल की सजा सुनाई गई है।

ललन पासवान ने पटना में लालू के खिलाफ किया केस
वायरल ऑडियो में मामले में भाजपा के विधायक ललन पासवान ने पटना के निगरानी थाने में मामला दर्ज कराया है। इसमें उन्होंने आरोप लगाया है कि लालू यादव ने कॉल कर उन्हें लालच देने की कोशिश की थी। इस वजह से उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाए।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


Lalu Prasad Yadav; President of Rashtriya Janata Dal Will Shift From Bungalow To RIMS Ranchi Ward

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *