फ्रांस के खिलाफ प्रदर्शन करने वाले आरिफ मसूद के कॉलेज पर दो बार चला बुलडोजर


भोपाल के इकबाल मैदान में फ्रांस के राष्ट्रपति के खिलाफ भीड़ जुटाने वाले कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद के खिलाफ प्रशासन ने शिकंजा कसा है। एक दिन पहले पुलिस ने विधायक आरिफ मसूद समेत 7 के खिलाफ धार्मिक भावनाएं भड़काने के मामले में एफआईआर दर्ज की है। अगले ही दिन प्रशासन ने बड़े तालाब के कैचमेंट एरिया में बनी बिल्डिंग के एक हिस्से पर बुलडोजर चला दिया गया। यहां विधायक आरिफ मसूद का कॉलेज भी बना हुआ है।

तीन घंटे में दो बार यहां बुलडोजर चलाकर अलग-अलग जगह स्थित सीढ़ी, बाथरूम आदि तोड़े गए हैं।

आरिफ मसूद बोले- किसी धर्म के बारे में बुरा नहीं बोला

इस बीच कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद ने कहा कि मेरा प्रोटेस्ट शांतिपूर्ण था। मैंने कभी किसी के धर्म के बारे में बुरा नहीं बोला। मेरे धर्म के बारे में जब बुरा बोला गया, उस पर रिएक्ट करने का मुझे संवैधानिक अधिकार है। सरकार मुझ पर दबाव बना रही है। उन्होंने कहा कि मेरे कॉलेज का भी कुछ हिस्सा तोड़ा गया है।

कार्रवाई को देखते हुए इलाके में हलचल बढ़ गई थी।

खानूगांव में विरोध को देखते हुए 200 से अधिक पुलिस अधिकारी और निगम अमला तैनात किया था। DIG इरशाद वली ने बताया कि अतिक्रमण के खिलाफ खानूगांव में कार्रवाई की गई।

विरोध को देखते हुए बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है।

कंट्रोल रूम में सुबह से ही जमा हुए पुलिसवाले
पुलिस और नगर निगम का अमला सुबह करीब 6 बजे से ही पुलिस कंट्रोल रूम में जमा होना शुरू हो गया था। मसूद के कॉलेज में भी इसको लेकर हलचल देखी गई। यहां पर प्रशासन के पहुंचने के पहले की काफी संख्या में कर्मचारी कॉलेज पहुंच गए थे। हालांकि, अब भी प्रशासन इसको लेकर साफ तौर पर कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है।

एक दिन पहले मसूद पर एफआईआर हुई
आरोप लगे हैं कि भोपाल मध्य से विधायक आरिफ मसूद ने भीड़ इकट्‌ठा कर भोपाल के इकबाल मैदान में फ्रांस का झंडा और वहां के राष्ट्रपति का पुतला जलाया था। इस दौरान भाषण में मसूद ने कहा कि केंद्र और राज्य की हिंदूवादी सरकार के मंत्री भी फ्रांस की हरकत का समर्थन कर रहे हैं। हम फ्रांस के साथ हिंदुस्तान की सरकार को भी चेतावनी देते हैं कि यदि सरकार ने फ्रांस का विरोध नहीं किया तो हम हिंदुस्तान में भी ईंट से ईंट बजा देंगे। पहले तो पुलिस ने इस मामले में सिर्फ धारा 144 के उल्लंघन का मामला दर्ज किया था, लेकिन बाद में सरकार के रुख के चलते धार्मिक भावनाएं भड़काने की धाराओं में मसूद समेत 7 लोगों पर FIR की गई।

डराने का काम कर रही भाजपा सरकार
कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद ने कहा कि मुझे जानकारी मिली कि खानूगांव स्थित मेरे कॉलेज के एक हिस्से को तोड़ दिया गया है, जबकि कोर्ट से मुझे परमिशन मिल चुकी है। यह भाजपा सरकार डराने का काम कर रही है। हम लोकतंत्र और संविधान पर भरोसा करने वाले लोग है, घबराने की जरूरत नहीं है। हम कानूनी लड़ाई लड़ेंगे। बच्चों को अगर खुले मैदान में भी पढ़ाना पढ़े तो हम पढ़ाएंगे जरूर। सरकार ने मुझ पर दबाव बनाने के लिए कार्रवाई की है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


भोपाल में कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद के कॉलेज में जेसीबी से शेड तोड़ा गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *