इटली में 24 घंटे में रिकॉर्ड 26 हजार से ज्यादा केस मिले; फ्रांस में वर्क फ्रॉम होम अनिवार्य; अब तक 4.51 करोड़ केस


इटली में 24 घंटे में रिकॉर्ड 26,831 संक्रमित मिले और 217 लोगों की जान गई। देश में मरीजों की संख्या 6.16 लाख से ज्यादा हो गई है। वहीं, अब तक 38,122 लोगों की जान जा चुकी है। एक दिन पहले बुधवार को यहां 24,991 मरीज मिले थे, जो कि रिकॉर्ड ही था।

वहीं, फ्रांस में गुरुवार को कोरोना के 47,637 मामले सामने आए और 235 लोगों की जान गई। इससे पहले यहां सबसे ज्यादा 52,010 मामले 25 अक्टूबर को मिले थे। कोरोना की बढ़ती रफ्तार को देखते हुए सरकार ने देश में वर्क फ्रॉम होम अनिवार्य कर दिया है। लेबर मिनिस्टर एलिसाबेथ बॉर्ने ने यह जानकारी दी। गुरुवार को यहां लॉकडाउन नवंबर तक बढ़ाने का ऐलान किया गया।

दुनिया में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 4.51 करोड़ से ज्यादा हो गया है। 3 करोड़ 28 लाख 89 हजार 441 मरीज रिकवर हो चुके हैं। अब तक 11.83 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। ये आंकड़े www.worldometers.info/coronavirus के मुताबिक हैं। रायटर्स के मुताबिक, रूस ने मांग बढ़ने और खुराक की कमी के कारण अपने नए वॉलेन्टियर्स को अस्थायी रूप से कोरोना वैक्सीन लगाना बंद कर दिया है। इसके साथ ही मॉस्को की महत्वाकांक्षी योजना को झटका लगा है।

इन 10 देशों में कोरोना का असर सबसे ज्यादा

देश

संक्रमित मौतें ठीक हुए
अमेरिका 91,75,336 2,33,731 59,54,907
भारत 80,87,494 1,21,120 73,71,308
ब्राजील 54,74,840 1,58,611 49,34,548
रूस 15,81,693 27,301 11,86,041
फ्रांस 12,82,769 36,020 1,15,287
स्पेन 12,38,922 35,639 उपलब्ध नहीं
अर्जेंटीना 11,30,533 30,071 9,31,147
कोलंबिया 10,41,935 30,753 9,41,874
ब्रिटेन 9,65,340 45,955 उपलब्ध नहीं
मैक्सिको 9,06,863 90,309 6,63,639

पोलैंड: 20,156 नए संक्रमित मिले

पोलैंड में गुरुवार को 20,156 संक्रमित मिले। इसके साथ ही यहां मरीजों की संख्या तीन लाख के पार हो गई। यहां कुल केस 3,19,205 हो गए हैं। 24 घंटे में 301 लोगों की जान गई। मरने वालों की संख्या 5,149 हो गई है।

पोलैंड में कोरोनावायरस महामारी बढ़ती जा रही है। देश में लगे टोटल बैन के खिलाफ लोग प्रदर्शन कर रहे हैं।

अमेरिका में हर दिन औसतन 70 हजार संक्रमित मिले

वॉशिंगटन पोस्ट की एक रिपोर्ट के मुताबिक, मंगलवार के पहले एक हफ्ते तक अमेरिका में हर दिन औसतन 70 हजार नए संक्रमित मिले। अस्पतालों में भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या भी तेजी से बढ़ रही है। इसके साथ ही मरने वालों का आंकड़ा भी पिछले हफ्ते 5600 बढ़ गया।

ट्रम्प का झूठ
राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने पिछले हफ्ते कहा था कि देश में संक्रमण बढ़ने को लेकर भ्रम फैलाया जा रहा है। इसकी वजह यह है कि टेस्टिंग ज्यादा हो रही है या हो सकता है इसके पीछे कोई साजिश हो। लेकिन, व्हाइट हाउस के टेस्टिंग इंचार्ज ब्रेट गिरियोर ने राष्ट्रपति की बात को खारिज कर दिया। गिरियोर ने कहा- यह सच है कि केस बढ़ रहे हैं। इसका सबूत यह है कि अस्पतालों में भर्ती होने वालों के संख्या भी बढ़ रही है।

मास्क पहनने से अब भी बच रहे लोग
रिपोर्ट के मुताबिक, महामारी फैलती जा रही है, लेकिन अब भी देश के ज्यादातर हिस्सों में लोग मास्क पहनने में दिलचस्पी नहीं दिखा रहे। व्हाइट हाउस में कोरोनावायरस टास्क फोर्स के कोऑर्डिनेटर डेब्रॉह ब्रिक्स ने कहा- आप ग्रॉसरी स्टोर्स, रेस्टोरेंट्स और होटल्स में देखिए। यहां भी लोग आपको बिना मास्क के नजर आ जाएंगे।

जर्मनी में भी सख्त प्रतिबंधों की तैयारी

यूरोप के देश संक्रमण की दूसरी लहर से जूझ रहे हैं। फ्रांस ने एक महीने का सख्त लॉकडाउन लगाया। जर्मनी ने पार्शियल यानी आंशिक लॉकडाउन का ऐलान किया। लेकिन, कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि जल्द ही एंजेला मर्केल सरकार सख्त लॉकडाउन लगाने जा रही है। इसकी वजह देश में बढ़ता संक्रमण और लोगों का सावधानी न बरतना है। सरकार की कोशिश है कि संक्रमण एक घर से दूसरे घर तक न पहुंच सके। 10 लोगों से ज्यादा एक स्थान पर नहीं जुट सकेंगे। कुल 16 शहरों में सख्त प्रतिबंध रहेंगे। सरकार ने कहा है कि बहुत जरूरी न होने पर लोग यात्रा करने से बचें। इसकी वजह से दिक्कतें बढ़ सकती हैं।

फ्रांस में लॉकडाउन के दौरान ये प्रतिबंध रहेंगे
. एक्सरसाइज के लिए एक घंटे बाहर निकल सकेंगे। मेडिकल केयर और बेहद जरूरी सामान लाने घर से निकल सकेंगे। बाकी वक्त घर में रहना होगा।
. रेस्टोरेंट्स और बार पूरी तरह बंद रहेंगे।
. गैर जरूरी सामान की दुकाने बंद रहेंगी।
. दो क्षेत्रों के बीच यात्रा पर प्रतिबंध रहेगा।
. कुछ देशों की सीमाएं बंद रहेंगी।
. यूनिवर्सिटीज में सिर्फ ऑनलाइन क्लासेज होंगी।
. बाहर निकलने की वाजिब वजह के साथ दस्तावेज दिखाने होंगे।
. घर से एक किमी. से ज्यादा नहीं जा सकेंगे।

डब्ल्यूएचओ ने क्या कहा
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी दी है कि पिछले हफ्ते की तुलना में इस हफ्ते यूरोप में संक्रमण से मरने वालों का आंकड़ा 35% बढ़ सकता है। फ्रांस और जर्मनी के अलावा नीदरलैंड्स, स्पेन और चेक रिपब्लिक में भी संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं। इटली में लॉकडाउन के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान पुलिस और प्रदर्शनकारियों में हिंसक झड़पें हुईं।

बुधवार को जर्मनी के बर्लिन में एक रेस्टोरेंट के बाहर से गुजरते लोग। यहां आंशिक लॉकडाउन लगाया गया था। अब खबर है कि सरकार इसे सख्त लॉकडाउन में बदल सकती है।

साउथ अफ्रीकी प्रेसिडेंट आईसोलेशन में
दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सिरिल रामफोसा सेल्फ आईसोलेशन में चले गए हैं। शनिवार को रामफोसा एक डिनर में शामिल हुए थे। इस डिनर में शामिल एक शख्स को बाद में संक्रमित पाया गया। हालांकि, राष्ट्रपति के प्रेस सेक्रेटरी ने साफ कर दिया कि रामफोसा में फिलहाल किसी तरह के लक्षण नहीं देखे गए हैं। लेकिन, इसके बावजूद उन्हें ऐहतियातन आईसोलेट होने को कहा गया है।

चीन में 47 नए मामले
चीन में बुधवार को एक दिन में 47 नए मामले सामने आए। यह दो महीने में सबसे ज्यादा केस हैं। अब सरकार ने कहा है कि वो इसे संक्रमण की दूसरी लहर की तरह देख रही है और इसे रोकने के लिए सख्त उपाय किए जाएंगे। फिलहाल, सरकार की सबसे बड़ी फिक्र इस बात को लेकर है कि लोकल ट्रांसमिशन के मामले भी तेजी से बढ़ रहे हैं। नेशनल हेल्थ अथॉरिटी ने बुधवार रात जारी बयान में कहा- 23 मामले स्थानीय संक्रमण के हैं और यह परेशानी पैदा करने वाले हैं।

फोटो बुधवार की है। बीजिंग की एक मेट्रो ट्रेन में मास्क लगाए हुए लोग। चीन सरकार ने संकेत दिए हैं कि देश में संक्रमण की दूसरी लहर शुरू हो रही है। लिहाजा, एक बार फिर प्रतिबंध लगाए जा सकते हैं।

फ्रांस में दूसरा लॉकडाउन
फ्रांस में संक्रमण की दूसरी लहर को देखते हुए सरकार सतर्क हो गई है। बीबीसी के मुताबिक, राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने देश में दूसरी बार लॉकडाउन लगा दिया है। लॉकडाउन पूरे नवंबर के लिए रहेगा। नया प्रतिबंध शुक्रवार से शुरू होगा। लोगों को केवल जरूरी कामों या मेडिकल इमरजेंसी में ही घर से निकलने की इजाजत होगी। इस दौरान रेस्टोरेंट और बार बंद रहेंगे, लेकिन स्कूल और फैक्ट्रियां खुली रहेंगी। देश में अब तक करीब 12 लाख संक्रमित मिल चुके हैं और 35,541 लोगों की मौत हो चुकी है।

अमेरिका में एक हफ्ते में 5600 संक्रमितों की मौत
अमेरिका में चुनाव बिल्कुल सिर पर है, लेकिन यहां कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। एक हफ्ते में पांच लाख से ज्यादा नए संक्रमित मिले हैं। इसी दौरान 5600 संक्रमितों की मौत हो गई। न्यूज एजेंसी रॉयटर्स ने यह जानाकारी दी है। कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य इलिनॉइस है। 31 हजार मामले इसी राज्य में सामने आए। पेन्सिलवेनिया और विस्कॉन्सिन में भी हालात तेजी से बिगड़ रहे हैं। विस्कॉन्सिन के हेल्थ इंचार्ज आंद्रे पॉम ने कहा- हम चाहते हैं कि चुनाव के लिए मतदान के दौरान कोरोना दिक्कत न बने। इसके लिए हर जरूरी व्यवस्था की जा रही है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


इटली की राजधानी रोम के एक हॉस्पिटल में प्रोटेक्टिव सूट पहने डॉक्टर्स। यहां संक्रमितों की संख्या 6 लाख से ज्यादा हो गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *