बिना रीटेक लिए बॉलीवुड आर्टिस्ट प्रस्तुति दे रहे, रोज तीन घंटे रिहर्सल करते हैं; ढाई घंटे तैयार होने में लगते हैं


(विजय उपाध्याय) अयोध्या में आधुनिकता के नए प्रयोग के साथ सहिष्णुता का रंग पक्का हो रहा है। सरयू किनारे लक्ष्मण किले में भव्य सेट और लाइटिंग के बीच रामलीला का मंचन हो रहा है। इसके रोमांच को बॉलीवुड के कलाकारों ने और बढ़ा दिया है। दिल्ली और मुंबई सेे आया 120 लोगों का दल मंचन कर रहा है। इसमें 85 आर्टिस्ट अलग-अलग किरदार निभा रहे हैं।

इसे दूरदर्शन और सोशल मीडिया के जरिए हर रोज 5 करोड़ से ज्यादा लोग देख रहे हैं। रावण की भूमिका निभा रहे शहबाज खान भगवान शंकर के शिवतांडव स्तोत्र का गायन कर रहे हैं। शहबाज बताते हैं- ‘रामलीला, राम और रावण से जुड़ी घटनाओं का प्रवाह है।’ तैयारियों पर कहते हैं- ‘सबसे बड़ी चुनौती यह थी कि हमें तीन घंटे लाइव प्रस्तुति देनी है। वो भी एक भी रीटेक लिए बिना।

इसलिए अगस्त से ही तैयारी शुरू कर दी थी। अभी भी हर दिन दो से तीन घंटे संवादों को याद करते हैं। प्रस्तुति से ठीक पहले मंच पर रिहर्सल करते हैं। रामलीला में अंगद बने भाजपा सांसद रवि किशन बताते हैं- ‘अयोध्या की रामलीला में पूरा भारत समाया है। नारद बने असरानी सिंध से और हनुमान बने बिंदु दारा सिंह पंजाब से आते हैं।’

सीता का किरदार निभा रहीं टीवी कलाकार कविता जोशी बताती हैं- ‘सीता के अवतार में आने के लिए हर दिन दो से ढाई घंटे तक मेकअप में लगते हैं। हम दिन-रात संवादों को जीते हैं।’ कलाकारों के मेकअप के लिए 12 आर्टिस्ट काम कर रहे हैं।

दूरदर्शन के महानिदेशक मनोज अग्रवाल बताते हैं कि दूरदर्शन के सबसे बेहतर कैमरा क्रू और टेक्नीशियन अयोध्या भेजे गए हैं। 9 एचडी कैमरे अलग-अलग एंगल से मंच को कवर करते हैं और एचडी वैन में बने कंट्रोल रूम से लाइव प्रसारण हो रहा है।

अयोध्या के लोग रामलीला को टीवी पर देखकर खुश हैं। हनुमान मंदिर के पुजारी संतोष वैदिक कहते हैं- ‘यहां रामलीला सीमित हो गई थी। लेकिन, नई रामलीला से माहौल बदल रहा है।’ होटल व्यवसायी अनूप बताते हैं कि उनके पास इस रामलीला को सामने से देखने के लिए जमकर पूछताछ आ रही है। उम्मीद है अगले साल मंच के सामने बैठकर देखने का मौका मिलेगा।

रावण दहन के लिए पीएम मोदी को आने का निमंत्रण

पहली बार रामलीला का लाइव प्रसारण दूरदर्शन पर हो रहा है। रामलीला का समापन 25 अक्टूबर को रावण दहन से किया जाएगा। दहन के लिए लगभग 100 फुट ऊंचा रावण का इकोफ्रेंडली पुतला बनवाया जा रहा है। ताकि प्रदूषण कम से कम हो। यह 23 को अयोध्या पहुंचेगा।

शो के आयोजक बॉबी मलिक ने बताया कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर अयोध्या आकर रावण दहन करने का आग्रह किया है। इससे लोगों में उत्साह का संचार होगा। हालांकि, उन्हें प्रधानमंत्री ऑफिस की तरफ से कंफर्मेशन नहीं मिली है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


मंगलवार को राम के वनवास का मंचन हुआ। चित्रकूट में भगवान राम को मनाने के लिए भरत पहुंचे। जब वे नहीं माने तो भरत राम की खड़ाऊं लेकर लौट आए। इसके बाद उन्होंने खड़ाऊं को राजगद्दी पर रखकर 14 साल राजपाठ किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *