सर्वे में 66.5% लोगों ने कहा- अखबार सूचना का सबसे महत्वपूर्ण स्रोत, 75.5% ने माना- अखबार में खबरें और घटनाक्रम सही ढंग से होता है


देश में दो-तिहाई या 66.5% लाेगाें का मानना है कि अखबार अभी भी सूचना का सबसे महत्वपूर्ण स्रोत हैं। हालांकि 29.2% लाेग इससे सहमत नहीं थे। आईएएनएस और सी वोटर मीडिया ट्रैकर के सर्वे में यह बात सामने आई है। सर्वे में शामिल 63.1% लाेगाें ने माना कि कोरोना के बाद पाठकों के लिए अखबार अधिक महत्वपूर्ण हो गए हैं, जबकि 31.2% इससे असहमत थे।

75.5% ने कहा कि वे अखबार पढ़ना इसलिए पसंद करते हैं कि उसमें सभी खबरें और घटनाक्रम सही ढंग से दी जाती हैं, जबकि 12.5% ऐसा नहीं मानते हैं। सर्वे में 72.90% लाेगाें ने कहा कि टीवी न्यूज चैनलाें की बहस की तुलना में अखबार की रिपोर्ट अधिक जानकारी देती है, जबकि 21.50% लाेग इससे असहमत थे।

सर्वे में पाया गया कि न्यूज को फोन पर सक्रिय रूप से साझा किया जाता है। सर्वे में 68.1% लोगों ने कहा, जब मैं कुछ महत्वपूर्ण पढ़ता हूं, तो मैं इसे फोन पर अन्य लोगों से साझा करता हूं। हालांकि, टीवी की पहुंच को देखते हुए 40% लोगों ने टीवी न्यूज चैनलों को सूचना के सबसे भरोसेमंद स्रोत के रूप में पहचाना। वहीं 29.2% ने इस मामले में अखबार को तवज्जो दी।

इसके अलावा 14.9% ने सोशल मीडिया, 4.5% ने रेडियो और एफएम और 2.5% लोगों ने वेबसाइट पर भरोसा जताया। टीवी चैनलों में विज्ञापन के कारण सिर्फ चीजें खरीदने के सवाल पर 76.5% ने इस बात पर असहमति जताई, जबकि 19.3% इससे सहमत दिखे। 74.5% ने कहा कि टीवी चैनलों में विज्ञापन मनोरंजन के लिए अधिक हैं, जबकि 18.5% इससे असहमत नजर आए। सर्वे में 67.5% लोगों ने कहा कि आईपीएल मैचों के दौरान बहुत अधिक विज्ञापन ब्रेक होते हैं, जबकि 12.7% रहे। इसके अलावा 65.2%ने कहा कि वे बिना किसी ब्रेक के क्रिकेट मैच देखना चाहते हैं।

लाइव मैच देखने के बावजूद इसे अखबार में पढ़ना ज्यादा पसंद

सर्वे में महत्वपूर्ण बात यह सामने आई कि 52.2% उत्तरदाताओं ने कहा कि लाइव मैच देखने के बाद भी उसके बारे में अखबार में पढ़ना पसंद करते हैं, जबकि 30.2% लोग इससे असहमत रहे। कुल 65% लोगों ने कहा कि अखबारों में विज्ञापन अधिक उपयोगी हैं, जबकि 24.6% इससे असहमत नजर आए। सर्वे में देश के सभी राज्यों के प्रत्येक जिलों से आने वाले 5,000 से ज्यादा लाेगाें से सवाल पूछे गए थे। यह सर्वे 2020 में सितंबर के अंतिम और अक्टूबर के पहले हफ्ते में किया गया था।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


देश में दो-तिहाई या 66.5% लाेगाें का मानना है कि अखबार अभी भी सूचना का सबसे महत्वपूर्ण स्रोत हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *